महिलाओं को हिंसा से बचाने के लिए पंचायत स्तर पर बनेंगे केंद्र, नहीं लगाना पड़ेगा शहर का चक्‍कर

महिलाओं को हिंसा से बचाने के लिए पंचायत स्तर पर बनेंगे केंद्र, नहीं लगाना पड़ेगा शहर का चक्‍कर © जागरण द्वारा प्रदत्त महिलाओं को हिंसा से बचाने के लिए पंचायत स्तर पर बनेंगे केंद्र, नहीं लगाना पड़ेगा शहर का चक्‍कर

गोरखपुर, जागरण संवाददाता। सिद्धार्थनगर जिले में अब गांवों में घरेलू और बाहरी हिंसा से पीडि़त महिलाओं को न्याय के लिए भटकना नहीं पड़ेगा। इसके लिए ग्राम पंचायत स्तर पर महिला शक्ति केंद्र बनाए जाएंगे, जिनमें महिलाओं से जुड़ी सभी समस्याओं का निस्तारण किया जाएगा।

हिंसा का शिकार महिला को नहीं लगाना पड़ेगा जिला मुख्‍यालय का चक्‍कर

गांव में महिलाओं के साथ हिंसा होने पर उन्हें न्याय पाने के लिए शहर का रुख अपनाना पड़ता है, जिससे वह संबंधित विभागों और थानों के चक्कर काटकर थक जाती हैं। कई बार महिलाओं को यह तक पता नहीं होता कि अगर उनके साथ कोई घटना होती है तो उन्हें कहां शिकायत करनी है। इससे बड़ी संख्या में महिलाओं को न्याय नहीं मिल पाता। लेकिन ग्राम पंचायत स्तर पर मिशन शक्ति केंद्र बनने से महिलाओं को हर समस्या से राहत मिलेगी। यहां पर महिलाएं शिकायत दर्ज करा सकेंगी। जरूरत पडऩे पर संबंधित मामले को थाने पर सीधे ट्रांसफर किया जाएगा। जिला प्रोबेशन अधिकारी विनोद राय ने बताया कि मिशन शक्ति फेज-3 के अंतर्गत प्रत्येक ग्राम पंचायत में मिशन शक्ति केंद्र बनाए जाएंगे। यह केंद्र पंचायती राज विभाग के साथ मिलकर पंचायत घर और सरकारी विद्यालयों में तैयार किए जाएंगे।

कानून का मिलेगा लाभ

मिशन शक्ति केंद्र में महिलाओं की समस्या सुनने के साथ-साथ उन्हें कानून और महिला हेल्पलाइन नंबरों के बारे में भी जागरुक किया जाएगा, जिसमें घरेलू ङ्क्षहसा से महिलाओं का संरक्षण, दहेज प्रतिषेध अधिनियम, कन्या भ्रूण हत्या, लैङ्क्षगक अपराधों से बालकों का संरक्षण आदि अधिनियमों के बारे में बताया जाएगा। महिलाओं को महिला हेल्पलाइन नंबर, चाइल्ड हेल्पलाइन, महिला पावर लाइन, मुख्यमंत्री, पुलिस हेल्पलाइन की जानकारी दी जाएगी।

रोजगार योग्य बनाने के लिए भी किया जाएगा काम

मिशन शक्ति केंद्र में महिलाओं को रोजगार करने योग्य बनाने के लिए भी काम किया जाएगा। केंद्र और राज्य सरकार की किन योजनाओं में महिलाओं को रोजगार के लिए प्रशिक्षण दिया जा रहा है इसकी पूरी जानकारी महिलाओं को गांव में ही मिलेगी। इसके बाद संबंधित विभाग महिलाओं को विभिन्न ट्रेड में प्रशिक्षण दिलाएगा। साथ ही प्रशिक्षण पूरा होने पर नौकरी भी उपलब्ध कराई जाएगी।

सुनी जाएगी हर तरह की समस्‍या

मुख्‍या विकास अधिकारी पुलकित गर्ग बताते हैं कि महिलाओं की सुविधा के लिए प्रत्येक ग्राम पंचायत में मिशन शक्ति फेज-3 के अंतर्गत मिशन शक्ति केंद्र बनाए जाएंगे। जहां महिलाओं से जुड़ी हर समस्या का निस्तारण किया जाएगा। इससे महिलाओं को संबंधित विभाग और थानों के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे।

महिलाओं को हिंसा से बचाने के लिए पंचायत स्तर पर बनेंगे केंद्र, नहीं लगाना पड़ेगा शहर का चक्‍कर