भारत दूसरे मैच में जर्मनी से भिड़ेगा, ओपनिंग मुकाबले में मिली थी बड़ी हार

"भारत दूसरे मैच में जर्मनी से भिड़ेगा, ओपनिंग मुकाबले में मिली थी बड़ी हार" © News18 हिंदी द्वारा प्रदत्त "भारत दूसरे मैच में जर्मनी से भिड़ेगा, ओपनिंग मुकाबले में मिली थी बड़ी हार"

नई दिल्ली. टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) में भारतीय महिला हॉकी टीम (Indian Womens Hockey Team) की शुरुआत अच्छी नहीं रही. ओपनिंग मैच में उसे विश्व की नंबर-1 टीम नीदरलैंड्स ने 5-1 से हराया था. अब दूसरे लीग मैच में सोमवार को भारत का मुकाबला विश्व की नंबर-3 टीम जर्मनी से होगा. इस मैच में टीम अपनी पिछली कमियों को दूर करने की कोशिश करेगी. भारतीय टीम ने नीदरलैंड्स के खिलाफ पहले दो क्वार्टर में तो अच्छा खेल दिखाया था.

खासतौर पर भारतीय गोलकीपर सविता पुनिया ने अच्छा प्रदर्शन किया. लेकिन आखिरी दो क्वार्टर में टीम की लय टूट गई और नीदरलैंड्स हावी हो गया और आखिर में बड़े अंतर से मुकाबला जीत लिया. इस हार के बाद भारतीय टीम को यह समझ आ गया होगा कि अंतरराष्ट्रीय हॉकी में पूरे 60 मिनट आपको लय बरकरार रखना जरूरी है.

भारतीय महिला हॉकी टीम के चीफ कोच शुअर्ड मारिन (Sjoerd Marijne) भी इस बात को समझते हैं. उन्होंने दूसरे लीग मैच से पहले कहा कि मैंने नीदरलैंड्स के खिलाफ मैच को देखा था. इसके बाद खिलाड़ियों से अपनी कमियां दूर करने को लेकर बात हुई है और फिलहाल, हमारा इसी पर ध्यान पर. जर्मनी भी मजबूत टीम है. अगर हम पूरे मैच में लय बरकरार रखने में सफल रहते हैं तो नतीजे काफी बेहतर आएगा.

जर्मनी ने जीत से किया है आगाज

पिछले ओलंपिक में जर्मनी ने सिल्वर मेडल जीता था. टोक्यो गेम्स में भी जर्मनी ने ग्रुप-ए में अपने अभियान की शुरुआत जीत से की है. उसने पहले मैच में ब्रिटेन को 2-1 से शिकस्त दी थी. ऐसे में जर्मनी के खिलाफ सफल होने के लिए भारतीय टीम को ज्यादा आक्रामक होकर खेलना होगा और जर्मनी पर लगातार दबाव बनाए रखना होगा. जोकि पहले मैच में नजर नहीं आया. इसमें कप्तान रानी रामपाल का रोल सबसे अहम होगा. उन्होंने नीदरलैंड्स के खिलाफ इकलौता गोल किया था.

उन्हें जर्मनी के खिलाफ भी ऐसा ही खेल दिखाना होगा. हालांकि, भारत के लिए ग्रुप-ए में राह आसान नहीं है. क्योंकि इसमें नीदरलैंड्स, जर्मनी के साथ आयरलैंड और दक्षिण अफ्रीका जैसी मजबूत टीमें भी हैं.

हम अपनी गलतियों को दुरुस्त करेंगे: रानी

दूसरे लीग मैच से पहले रानी ने कहा कि हम निश्चित रूप से अपने पहले मैच से काफी सकारात्मक चीजें ले सकते हैं. हमने आक्रामक हॉकी खेली. खासतौर पर पहले हाफ में. हमने काफी मौके बनाए. हम दुनिया की बेस्ट टीम के खिलाफ भी खेल रहे थे और हमने मैच के बड़े हिस्से में विपक्षी टीम को काबू में रखा. हालांकि, यह नाकाफी साबित हुआ. हमें अब जर्मनी के खिलाफ जीतने के लिए अपने खेल का स्तर और ऊंचा करना होगा. हमने पहले मैच में की गलतियों को पहचाना है और अगले मुकाबले में इसे दुरुस्त करेंगे.

भारत दूसरे मैच में जर्मनी से भिड़ेगा, ओपनिंग मुकाबले में मिली थी बड़ी हार